saahityshyamसाहित्य श्याम

VideoBar

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

यह ब्लॉग खोजें

Gadget

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

शुक्रवार, 30 मार्च 2012

प्रेम कव्य..नवम सुमनान्जलि -.भक्ति-श्रृंगार .. रचना-१ व २.....--देवानुराग

                                        कविता की भाव-गुणवत्ता के लिए समर्पित             
                  

              प्रेम  -- किसी एक तुला द्वारा नहीं तौला जा सकता, किसी एक नियम द्वारा नियमित नहीं किया जा सकता; वह एक विहंगम भाव है  | प्रस्तुत है-- नवम सुमनान्जलि- भक्ति-श्रृंगार ----इस सुमनांजलि में आठ  रचनाएँ ......देवानुराग....निर्गुण प्रतिमा.....पूजा....भजले राधेश्याम.....प्रभुरूप निहारूं ....सत्संगति ...मैं तेरे मंदिर का दीप....एवं  गुरु-गोविन्द .....प्रस्तुत की जायेंगी । प्रस्तुत है प्रथम रचना---देवानुराग ...बरवै छंद में ...


शंकर-सुत, गणनाथ, गजआनन, विघ्नेश्वर :।
करें  ह्रदय  में वास ,  गौरी-नंदन प्रभु  सदा ।।   

वाणी भाव विभाव, अक्षर अर्थ-समूह रस ।
भरें ह्रदय में भाव, मतिदा मातु सरस्वती ।। 

वीणा, पुस्तक हाथ, माँ वाणी, माँ शारदे ! 
करें ह्रदय में वास ,  मेरी जड़ता को  हरें ।। 

क्षीर-सिन्धु में वास,  शेषनाग शय्या बने।
करें ह्रदय में वास,विष्णु रमापति चतुर्भुज ।।

जटा गंग शशि माथ, कर डमरू गल व्याल धर,
करें ह्रदय में वास , वृषा-रूढ़ शिव-शम्भु नित ।।

चार वेद कर धारि, चतुरानन जग-रचयिता ।
मन में करें निवास,आदि-देव ब्रह्मा सदा ।।

धनुष बाण ले हाथ, पंकज-लोचन, श्याम तनु ।
करें ह्रदय में वास , सीतापति श्री राम प्रभु ।।

ग्वाल-बाल हैं साथ, अधर मुरलिया पीत पट ।
सदा ह्रदय में वास, हाथ लकुटि गोपाल श्री ।।

मन में करें प्रकाश, शिवा भवानी अम्बिका ।
मन में करें निवास, शैलसुता  गौरी  उमा ।

कर्म प्रभाव प्रकाश , रिद्धि-सिद्धि-श्री प्रदाता ।
करें ह्रदय में वास, लक्ष्मी विष्णु-प्रिया सदा ।।

सिय जग-जननी मातु, रामप्रिया श्रीजानकी ।
मन में करें निवास, भूमिसुता जग-वन्दिता ।।

छूटें  भव-संताप, राधे  राधे  रटत  ही ।
सदा ह्रदय में वास, श्याम-प्रिया राधा करें ।। 

  द्वितीय रचना ....
...निर्गुण प्रतिमा....
देव दर्शन किये, धर्म ग्रंथो को पढ़ ,
पूजा अर्चन को, मंदिर में जाते रहे ।
तीर्थों में फिर,   मंदिर-मंदिर गए,
शंख, घंटे, मंजीरे  बजाते  रहे।।
धर्म क्या है?ये क्यों?ये दर्शन है क्या?
मंदिरों में क्यों पूजा करते हैं हम ?
एक पाहन की गढ़ के प्रतिमा कोई,
क्यों मंदिर में उसको सजाते हैं हम ?
वो निर्गुण है, उसका कोई रूप क्या,
जों कण-कण में उसका कोई रूप क्या ?
सबके मन में औ सारे भुवन में बसा,
क्यों फिर उसकी मूरत बनाते हैं हम ?
यूं तो उत्तर बहुत सारे मिल जायेंगे ,
प्रश्न ही सारे उनमें उलझ जायेंगे।
भक्ति की भाव-सुरसरि की पावन महक,
उर बसे, सारे ही हल निकल आयेंगे ।
यही सच है कि निर्गुण है कण-कण बसा,
है बसा मन में, सारे भुवन में बसा ।
जो हैं ज्ञानी, निर्गुण को हैं जानते ,
जो कण-कण में है उसको पहचानते।
ज्ञान का तो पथ दुर्गम,कठिन है बड़ा,
राह में बाधा बनके, अहं है खडा । 
भक्ति का मार्ग सीधा सहज औ सरल,
दास बन जाता है भक्त, अरदास कर ।
दास का है अहं से न नाता कोई,
नष्ट होता अहं भक्त बनता है तब।
भाव को कर्म में ढाल सेवा के हित,
भक्त स्वामी की मूरत गढ़ता है तब ।
वो चरण पादुकाएं रघुनाथ की,
मानकर राम और जानकर जानकी।
साधना की भरत ने थी चौदह बरस,
नित्य करते रहे राम और सिय दरस ।
भक्ति प्रभुभाव और दास्य भी भाव-प्रभु,
भावना में ही प्रभु को पायें जो हम।
प्रिय की प्रिय वस्तु की ही जो पूजा करें ,
भावना में ही प्रिय को यूं पाजायें हम ।
है भला कौन क्या सारे संसार में,
जिसको प्रिय ईश ने हो बनाया नहीं ।
किसकी पूजा करें ,किसकी न हम करें,
एसा प्रभु ने कभी तो बताया नहीं ।
मनाकर प्रभु है बसता,अखिल विश्व में,
और संसार को मानकर प्रभु में हम।
एक मन भावनी निर्गुन मूरत बना,
बस मंदिर में उसको सजा देते हम ।
पूजा क्या और क्यों मंदिर जाते हैं हम?
कोई मूरत ही क्यों सजाते हैं हम ?



 

मंगलवार, 20 मार्च 2012

दाम्पत्य ..प्रेम काव्य...अष्टम सुमनान्जलि--..सहोदर व सख्य-प्रेम... गीत--7 (अंतिम )...डा श्याम गुप्त

                                    कविता की भाव-गुणवत्ता के लिए समर्पित



              प्रेम  -- किसी एक तुला द्वारा नहीं तौला जा सकता, किसी एक नियम द्वारा नियमित नहीं किया जा सकता; वह एक विहंगम भाव है  | प्रस्तुत है-- अष्टम सुमनान्जलि--सहोदर व सख्य-प्रेम ...इस खंड में ...अनुज, अग्रज,  भाई-बहन,  मेरा भैया,  सखा ,  दोस्त-दुश्मन एवं दाम्पत्य ...आदि सात  रचनाएँ प्रस्तुत की जायेंगी 
---प्रस्तुत है ...सप्तम रचना ...दाम्पत्य 

ये  दुनिया हमारी,  सुहानी न होती,  
कहानी ये अपनी, कहानी न होती ।
जमीं  चाँद  तारे,   सुहाने  न  होते,
जो प्रिय तुम न होते, अगर तुम न होते ।

सुहानी ये अपनी,  सपनों की दुनिया,
चंचल सी चितवन, इशारों की दुनिया।
सुख-दुःख के बंधन, सहारों की दुनिया,
अंगना ये प्यारा, दुलारी ये दुनिया ।।

तुम्हीं ने सजाया,  संवारा, निखारा,
दिया प्यार का, जो  तुमने सहारा ।
ये दिन-रात न्यारे, ये सुख भोग सारे,
भला कैसे होते, अगर तुम न होते।।

हो सेवा या सत्ता के अधिकार सारे,
निभाता रहा मैं, ये दायित्व सारे ।
ये बच्चों का पढ़ना, गृहकार्य सारे,
सभी कैसे होते,अगर तुम न होते ।

मैं रचता रहा, ग्रन्थ कविता कहानी,
सदा खुश रहीं तुम, बनी घर की रानी ।
ये रस रूप रसना,  भव-सुख न होते ,
जो प्रिय तुम न होते,अगर तुम न होते।

न ये प्यार होता , न  इकरार होता,
न साजन की गलियाँ न सुख-सार होता।
न रस्में, न क़समें, कहानी न होतीं ,
जमाने की सारी, रवानी न होतीं ।

कभी ख़ूबसूरत भटकन जो आई,
तेरे प्यार की मन में खुशबू समाई ।
अगर तुम न होते, तो कैसे सम्हलते,
बलाओं से कैसे, यूं बच के निकलते।।  

सभी रिश्ते-नाते, गुण जो  हैं गाते ,
भला कैसे गाते, जो तुम ना निभाते ।
ये छोटी सी बगिया, परिवार अपना,
सुघड़ कैसे होता, जो तुम ना सजाते ।।

ये ऊंचाइयों के शिखर,  ये  सितारे,
धन-सम्पति, संतति, सभी वारे-न्यारे।
प्रशस्ति या गुण-गान, तेरी ही माया ,
कहाँ सब ये होते, अगर तुम न होते ।।

वो दुर्दिन भी आये,  विपदा घनेरी,
कमर कसके तुमने निभाया सदा ही ।
कभी धैर्य मेरा भी डिगने लगा तो,
अडिग पर्वतों सी थी, तेरी अदा ही ।।

हमारी सफलता की सारी कहानी,
तेरे  प्रेम की नीति की सब निशानी ।
ये  सुन्दर  कथाएं, फ़साने न होते,
सजनि! तुम न होते, यदि तुम न होते ।।

प्रशस्ति तुम्हारी जो जग ने बखानी ,
कि तुम प्यार-ममता की मूरत-निशानी ।
ये अहसान तेरा,  सारे  ही   जग पर,
तथा त्याग, दृड़ता की सारी कहानी ।।

ज़रा  सोचलो, कैसे परवान चढते,
हमीं जो न होते,जो सखि ! हम न होते ।
हमीं  हैं  तो तुम हो,  सारा  जहां है,
जो तुमहो तो हम हैं सारा जहां है ।।

अगर हम न लिखते, हम जो न कहते,
भला गीत कैसे,  तुम्हारे ये बनते ?
किसे रोकते तुम, किसे टोकते तुम,
ये इसरार, इनकार, तुम कैसे करते ।।

न संसार होता, ये  भव-सार होता,
कहीं कुछ न होता, जो हम-तुम न होते।
हमीं  है तभी है ,  ईश्वर और   माया,
खुदा भी न होता, जो हम-तुम न होते ।।

कहानी  हमारी - तुम्हारी न होती,
न ये गीत होते,  न संगीत होता ।
सुमुखि! तुम अगर जो  हमारे न होते,
सजनि! जो अगर हम तुम्हारे न होते ।।

                                         ---- अष्ठम सुमनांजलि समाप्त ....क्रमश नवम सुमनांजलि ...




 





शुक्रवार, 16 मार्च 2012

दोस्त-दुश्मन....प्रेम काव्य...अष्टम सुमनान्जलि--..सहोदर व सख्य-प्रेम...गीत--६....डा श्याम गुप्त..

                                             

                                    कविता की भाव-गुणवत्ता के लिए समर्पित


       प्रेम  -- किसी एक तुला द्वारा नहीं तौला जा सकता, किसी एक नियम द्वारा नियमित नहीं किया जा सकता; वह एक विहंगम भाव है  | प्रस्तुत है-- अष्टम सुमनान्जलि--सहोदर व सख्य-प्रेम ...इस खंड में ...अनुज, अग्रज,  भाई-बहन,  मेरा भैया,  सखा ,  दोस्त-दुश्मन एवं दाम्पत्य ...आदि सात  रचनाएँ प्रस्तुत की जायेंगी 
---प्रस्तुत है ... षष्ठ रचना ...दोस्त-दुश्मन ...

ऐ मेरे प्रिय दोस्त तुझको, दुश्मनी का हक़ नहीं ।
तू जो दुश्मन, दुश्मनी से फिर मुझे नफ़रत नहीं ।

दोस्त ही दुश्मन बने फिर, क्या कोई नफ़रत करे ।
दोस्त ही दुश्मन तो कोई, क्या जिए और क्या मरे ।

दोस्त दुश्मन बन गया तो, दुश्मनों से फिर क्या डर ?
दुश्मनों से भी भला फिर,  क्यों कोई नफ़रत करे ।

दुश्मनों  की  दुश्मनी  तो,   बंदगी  कहलायगी,
वो हमें उत्साह, हिम्मत, जीतना सिखलायगी ।

बेरुखी अपनों की हो तो,  ज़िंदगी  खो जायगी ,
एक पल में ज़िंदगी,  बस बेखुदी  होजायागी ।

है मुझे मंजूर तेरी,   दुश्मनी प्यारी  सी  सब,
पर भला क्या दुश्मनी से, दोस्ती मिट पायगी ।

है मुझे मंजूर,  जीवन भर  तेरी नफ़रत सही ,
पर ये कहदे  मुझको तेरी, दोस्ती का हक़ नहीं ।।