saahityshyamसाहित्य श्याम

VideoBar

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

यह ब्लॉग खोजें

Gadget

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

शनिवार, 25 अगस्त 2012

प्रेम-काव्यमोक्षदा एकादश --प्रेम काव्य -एकादश सुमनान्जलि- अमृतत्व--रचना-५ ( अंतिम) ..डा श्याम गुप्त..

                                                कविता की भाव-गुणवत्ता के लिए समर्पित



                                          
                                                             प्रेम  -- किसी एक तुला द्वारा नहीं तौला जा सकता, किसी एक नियम द्वारा नियमित नहीं किया जा सकता; वह एक विहंगम भाव है  | प्रस्तुत है-- इस काव्य-कृति की अंतिम व एकादश  सुमनान्जलि- अमृतत्व --जो मानव जीवन का अंतिम लक्ष्य व सोपान है  वह प्रेम, भक्ति, कर्म , योग, ज्ञान   चाहे जिस  मार्ग से आगे बढे .. ----इस सुमनांजलि में...जीवन-सुख, शाश्वत-सुख, ज्ञानामृत, परमार्थ एवं मोक्षदा एकादश ....अदि पांच रचनाएँ प्रस्तुत की जायेंगी | प्रस्तुत है ..पंचम व इस कृति की अंतिम   रचना .....
              मोक्षदा एकादश ...

समझें  भेदा-भेद  जब, पायें  सच्चा  ज्ञान ,
मन विषयों से निरत हो, श्याम वही है ध्यान |

चिंतन में लय जो सदा, मन में दृढ़ संकल्प,
यही  अवस्था 'धारणा'', यही धर्म संकल्प |

शास्त्रों के अनुकूल जो, करते तर्क विचार ,
सभी प्राप्तियां तुच्छ हों, श्याम'समाधि 'विचार |

फल की जो इच्छा नहीं, धर्माधर्म अलिप्त,
राग  द्वेष दुःख से परे, सोई जीवन्मुक्त |

ज्ञाता ज्ञान व ज्ञेय  का, भेद रहे नहिं रूप,
वह तो स्वयं प्रकाश है, परमानंद स्वरुप |

नित्यानित्य विचार से, भवसुख सदा अनित्य,
ममता बंधन मुक्त हों, श्याम मोक्ष का सत्य |

ज्ञान और संसार को, जो  दोनों को ध्याय ,
माया बंधन पार कर, अमर तत्व सो पाय   |

इस  संसार असार में, श्याम' प्रेम ही सार ,
प्रेम  करे दोनों मिलें, ज्ञान और संसार |

प्रेम  बसे भगवान हैं, महिमा प्रेम अपार ,
वो ही  परमानंद है, प्रेम मोक्ष का सार |

प्रेम लीन  होपाय जो, परम शान्ति सो पाय,
सारे बंधन मुक्त हो, अमरतत्व  पाजाय   |

प्रेम  सभी से कीजिये, सकल शास्त्र का सार ,
ब्रह्मानंद  मिले उसे, श्याम' मोक्ष साकार ||



                                               इति  ---- प्रेम काव्य - महा काव्य  ...