saahityshyamसाहित्य श्याम

VideoBar

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

यह ब्लॉग खोजें

Gadget

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

सोमवार, 4 नवंबर 2013

" कुछ शायरी की बात होजाए"...से नज्म-२२ - खुदा का नाम पाया है ... डा श्याम गुप्त

                                   

                                      कविता की भाव-गुणवत्ता के लिए समर्पित

            " कुछ शायरी की बात होजाए"...से  नज्म-२२  -  खुदा का नाम पाया है ... 

                                   
                                

                                    

                              
                                 मेरी शीघ्र प्रकाश्य शायरी संग्रह....." कुछ शायरी की बात होजाए ".... से  ग़ज़ल, नज्में , रुबाइयां, कते, शेर  आदि  इस ब्लॉग पर प्रकाशित किये जायंगे ......प्रस्तुत है......कुछ नज्में... नज़्म- २२ ....

खुदा का नाम पाया है ...

न तुम ही तुम हो दुनिया में,
न हम ही हम हैं इस जगमें |
हमीं हैं इसलिए तुम हो,
हो तुम भी इसलिए हम हैं |

खुदा ने ये खलक सारा,
बनाया है बसाया है |
खुदा है इसलिए हम हैं,
खुदा है निसलिये तुम हो |

रहें मिलकर के हम तुम सब,
खुदा की ऐसी मरजी थी |
खुदा तुम में भी  हम में भी,
खुदा सब में समाया है |

न मंदिर में न मस्जिद में,
न गिरिजा घर खुदा का है |
खुदा को खुद में ही ढूंढें ,
खुदा हम में नुमांया है |

खुदी को श्याम तू करले,
बुलंद इतना , खुदा कहदे |
मेरी सारी खुदाई ही,
मांगले आज तू मुझसे |

खुदी है आईना तेरा ,
उसी में खुदा बसता है |
खुदा ने इसलिए ही तो ,
खुदा का नाम पाया है ||

                                   क्रमश : ......नज्में  .....