saahityshyamसाहित्य श्याम

VideoBar

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

यह ब्लॉग खोजें

Gadget

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

मंगलवार, 27 अक्तूबर 2009

सखि कैसे - डा श्याम गुप्त की कविता .....

कविता की भाव-गुणवत्ता के लिए समर्पित-------
                सखि कैसे !

सखि री तेरी कटि छीन ,पयोधर भार भला धरती हो कैसे ?
बोली सखी मुसुकाइ, हिये, उर भार तिहारो धरतीं हैं जैसे |


भोंहें बनाई कमान भला , हैं तीर कहाँ पै ,निशाना हो कैसे ?
नैनन  के  तूरीण में बाण ,  धरे उर ,पैनी कटार   के जैसे   |


कौन यहाँ मृग-बाघ धरे , कहो बाणन वार शिकार हो कैसे ?
तुम्हरो हियो मृग भांति  पिया,जब मारै कुलांच,शिकार हो जैसे |

प्रीति तेरी  मनमीत प्रिया ,उलझाए ये मन उलझी लट,जैसे |
लट सुलझाय तौ तुम ही गए,प्रिय मन उलझाय गए कहो कैसे ?


ओठ तेरे विम्बा फल भांति, किये रचि लाल , अंगार के जैसे |
नैन तेरे प्रिय प्रेमी चकोर ,रखें मन जोरि अंगार से जैसे |


अनहद नाद को गीत बजै,संगीत प्रिया अंगडाई लिए  से   |
कंचन काया के ताल-मृदंग पै, थाप तिहारी कलाई दिए ते |


प्रीति भरे रस-बैन तेरे,कहो कोकिल कंठ भरे रस कैसे ?
प्रीति की बंसी तेरे उर की ,पिय देती सुनाई मेरे उर में से |


पंकज नाल सी बाहें प्रिया ,उर बीच धरे  क्यों, अँखियाँ मीचे ?
मत्त-मतंग  की नाल सी बाहें ,भरें उर बीच रखें मन सींचे ||




कोई टिप्पणी नहीं: