saahityshyamसाहित्य श्याम

VideoBar

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

यह ब्लॉग खोजें

Gadget

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

सोमवार, 7 मई 2012

भज ले राधे श्याम ....प्रेम काव्य ... नवम सुमनान्जलि- भक्ति-श्रृंगार (क्रमश:) -रचना--4 .... डा श्याम गुप्त

                                       कविता की भाव-गुणवत्ता के लिए समर्पित





              प्रेम  -- किसी एक तुला द्वारा नहीं तौला जा सकता, किसी एक नियम द्वारा नियमित नहीं किया जा सकता; वह एक विहंगम भाव है  | प्रस्तुत है-- नवम सुमनान्जलि- भक्ति-श्रृंगार ----इस सुमनांजलि में आठ  रचनाएँ ......देवानुराग....निर्गुण प्रतिमा.....पूजा....भजले राधेश्याम.....प्रभुरूप निहारूं ....सत्संगति ...मैं तेरे मंदिर का दीप....एवं  गुरु-गोविन्द .....प्रस्तुत की जायेंगी प्रस्तुत है--चतुर्थ रचना ...
भज ले राधे श्याम ...
तेरा क्या होगा अंजाम 
नर तू भजले राधे-श्याम ।
गीता की तू राह पकडले,
भक्ति-प्रीति ह्रदय में जकडले।
राधा-प्रिय, राधे मन-मोहन,
भजले तू घनश्याम ।
तेरा क्या होगा अंजाम ।।
प्रभु से लगा प्रति की डोरी,
उनके पैर पकड़ बरजोरी ।
राधे-मोहन दिव्य नाम तू,
रट ले सुबहो-शाम।
तेरा क्या होगा अंजाम ।।
जीवन राह कठिन होजाए,
कर्महीनता तुझे सताए।
क्या करना, कैसे करना है,
जब यह बात समझ नहिं आये।
नटवर के गीता-स्वर सुनले,
भज गोविन्दम नाम ।।
तेरा क्या होगा अंजाम,
नर तू भजले राधे-श्याम ।।
                                      ---चित्र गूगल साभार ..
  
 

4 टिप्‍पणियां:

India Darpan ने कहा…

बहुत ही बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति....


इंडिया दर्पण
की ओर से शुभकामनाएँ।

डा. श्याम गुप्त ने कहा…

धन्यवाद इन्डिया दर्पण जी...आभार..

Sawai Singh Rajpurohit ने कहा…

बहुत सुंदर...

आभार डॉ श्याम गुप्त जी!!

डा. श्याम गुप्त ने कहा…

धन्यवाद सवाई सिन्ह जी....