saahityshyamसाहित्य श्याम

VideoBar

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

यह ब्लॉग खोजें

Gadget

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

शनिवार, 16 अक्तूबर 2010

डा श्याम गुप्त की कविता.....गांव की गोरी

कविता की भाव-गुणवत्ता के लिए समर्पित


 


डा श्याम गुप्त की कविता....गांव की गोरी.... .

गाँव की गोरी,
लम्बी लम्बी छोरी ।
इमली के तले
काली न गोरी।

'पतिया की जात' में
झूमते गुब्बारे।
मिट्टी की गाड़ी
गड़ गड़ गड़ पुकारे।

इमली के कतारे
और आँख मिचोली।
सरसों के खेत की
वो अठखेली ।

नील कंठ की दांई
और श्यामा की बाँई -
लेने को दौड़ना
खंदक हो या खाई।

गूंजती अमराइयां
नहर के किनारे।
सावन के गीत और
वर्षा की फुहारें ।

झमाझम बरसात में
जी भर नहाती।
खेतों की मेड़ों पर
झूम झूम गाती ।

सावन में जब कभी
कोकिल कहीं बोली।
बहुत याद आती हो
प्यारी हमजोली

कोई टिप्पणी नहीं: