saahityshyamसाहित्य श्याम

VideoBar

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

यह ब्लॉग खोजें

Gadget

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

शुक्रवार, 11 नवंबर 2011

प्रेमकाव्य-महाकाव्य. षष्ठ सुमनान्जलि (क्रमश:)-खंड ग-वियोग श्रृंगार ..गीत ८ ...डा श्याम गुप्त

                                         कविता की भाव-गुणवत्ता के लिए समर्पित

           प्रेम  -- किसी एक तुला द्वारा नहीं तौला जा सकता, किसी एक नियम द्वारा नियमित नहीं किया जा सकता; वह एक विहंगम भाव है  | अब तक प्रेम काव्य ..षष्ठ -सुमनान्जलि....रस श्रृंगार... इस सुमनांजलि में प्रेम के श्रृंगारिक भाव का वर्णन किया गया ..तीन खण्डों में ......(क)..संयोग श्रृंगार....(ख)..ऋतु-श्रृंगार तथा (ग).. वियोग श्रृंगार ....में दर्शाया गया है..... 
                 खंड ग ..वियोग श्रृंगार --ज-पागल मन,  मेरा प्रेमी मन,  कैसा लगता है,  तनहा तनहा रात में,  आई प्रेम बहार,  छेड़ गया कोई,  कौन,  इन्द्रधनुष एवं  बनी रहे ......नौ रचनाएँ प्रस्तुत की जायंगी | प्रस्तुत है.....
  अष्ठम गीत .....
     
     'न्द्नु'
 
तुम प्यार का इन्द्रधनुष,
   नयनों में सजा लेना ।             
      मैं याद तुम्हारी प्रिय,
        इस मन में बसा लूंगा ॥

जब जब दिल चाहेगा,
        तुमसे मिलने आना ।
               यादों की थपकी दे,
                     सपनों में भुला दूंगा॥   

जब पन्छी गायेंगे,
       तेरे सुर मे गाना ।
            मैं तेरी गुन गुन को,
                     ओठों पै सजा लूंगा ॥

जब मेरे गीत, पवन-
      लहरा कर के गाये ।
           उस प्यार सुरभि को तुम,
                 सांसों में बसा लेना  ॥

जब प्यार भरे पल की,
        यादें मन भर लायें ।
             सपनों का ताज महल,
                  यादों में सजा लेना ॥

तुम प्यार का इन्द्रधनुष,
       नयनों में सजा लेना ।
           यादों की महक तेरी,
                मैं दिल में बसा लूंगा ॥




कोई टिप्पणी नहीं: