saahityshyamसाहित्य श्याम

VideoBar

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

यह ब्लॉग खोजें

Gadget

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

शुक्रवार, 16 मार्च 2012

दोस्त-दुश्मन....प्रेम काव्य...अष्टम सुमनान्जलि--..सहोदर व सख्य-प्रेम...गीत--६....डा श्याम गुप्त..

                                             

                                    कविता की भाव-गुणवत्ता के लिए समर्पित


       प्रेम  -- किसी एक तुला द्वारा नहीं तौला जा सकता, किसी एक नियम द्वारा नियमित नहीं किया जा सकता; वह एक विहंगम भाव है  | प्रस्तुत है-- अष्टम सुमनान्जलि--सहोदर व सख्य-प्रेम ...इस खंड में ...अनुज, अग्रज,  भाई-बहन,  मेरा भैया,  सखा ,  दोस्त-दुश्मन एवं दाम्पत्य ...आदि सात  रचनाएँ प्रस्तुत की जायेंगी 
---प्रस्तुत है ... षष्ठ रचना ...दोस्त-दुश्मन ...

ऐ मेरे प्रिय दोस्त तुझको, दुश्मनी का हक़ नहीं ।
तू जो दुश्मन, दुश्मनी से फिर मुझे नफ़रत नहीं ।

दोस्त ही दुश्मन बने फिर, क्या कोई नफ़रत करे ।
दोस्त ही दुश्मन तो कोई, क्या जिए और क्या मरे ।

दोस्त दुश्मन बन गया तो, दुश्मनों से फिर क्या डर ?
दुश्मनों से भी भला फिर,  क्यों कोई नफ़रत करे ।

दुश्मनों  की  दुश्मनी  तो,   बंदगी  कहलायगी,
वो हमें उत्साह, हिम्मत, जीतना सिखलायगी ।

बेरुखी अपनों की हो तो,  ज़िंदगी  खो जायगी ,
एक पल में ज़िंदगी,  बस बेखुदी  होजायागी ।

है मुझे मंजूर तेरी,   दुश्मनी प्यारी  सी  सब,
पर भला क्या दुश्मनी से, दोस्ती मिट पायगी ।

है मुझे मंजूर,  जीवन भर  तेरी नफ़रत सही ,
पर ये कहदे  मुझको तेरी, दोस्ती का हक़ नहीं ।।
 

2 टिप्‍पणियां:

amrendra "amar" ने कहा…

bahut sunder prastuti

डा. श्याम गुप्त ने कहा…

धन्यवाद अमरेन्द्र जी.......आभार