saahityshyamसाहित्य श्याम

VideoBar

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

यह ब्लॉग खोजें

Gadget

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

शनिवार, 15 जून 2013

" कुछ शायरी की बात होजाए"...से नज्म-६,,उनकी महफ़िल से ..... डा श्याम गुप्त .

                                          कविता की भाव-गुणवत्ता के लिए समर्पित


        " कुछ शायरी की बात होजाए"...से  नज्म-६-     उनकी महफ़िल से........

                                      
                                

                                       

                                 
                                   मेरी शीघ्र प्रकाश्य शायरी संग्रह....." कुछ शायरी की बात होजाए ".... से  ग़ज़ल, नज्में  , रुबाइयां, कते, शेर  आदि  इस ब्लॉग पर प्रकाशित किये जायंगे ......प्रस्तुत है......कुछ नज्में... नज़्म ६....

      उनकी महफ़िल से.


अब न हम उठ पायंगे उनकी महफ़िल से ,
बुलाया जब उसी ने हसरते दिल से |

जायंगे उठकर भी तो जाएँ कहाँ ,
उनके जैसा संगेदिल होगा कहाँ |
उनके इस इज़हार की इकरार की ,
यादों का कैसे भला भूलें जहां |

हम जहां से भी नहीं उठ पायंगे ,
सामने उनको नहीं जो पायंगे |
उस जहां में मिलने का वादा जो हो,
दो जहां की ज़िंदगी पा जायंगे |

यूं न खेलें वो हमारे टूटे दिल दे,
फिर भला कैसे निकल पायेंगे दिल से ||

अब न कोई  डोर यूं उम्मीद की ,
हमने बांधी उनसे उनकी प्रीति की|
चाह है इस दर पे निकले जब ये दम ,
बात हो इक हार की इक जीत की |

वो जनाज़े पर मेरे न आयंगे ,
लोग कुछ यह देखकर मुस्कायंगे |
किन्तु पढ़ने फातिहा अक्सर मेरी-
कब्र पर छुपाते-छुपाते आयंगे |

भूल पाए क्यों नहीं  हम उनको दिल से,
वो सदा पूछा करेंगे अपने दिल से ||





 

2 टिप्‍पणियां:

नीरज गोस्वामी ने कहा…

श्याम भाई आपके ब्लॉग पर आज नवीन चतुर्वेदी जी के ब्लॉग पर दी गयी आपकी टिप्पणी के माध्यम से पहुंचा और यहाँ आ कर आनंदित हो गया . आपकी साहित्य के प्रति रूचि प्रशंशनीय है। आपकी जब शायरी की किताब प्रकाशित हो तो मुझे जरूर सूचित कीजियेगा . मैं अपने ब्लॉग पर ग़ज़लों की किताबों पर चर्चा (समीक्षा नहीं) किया करता हूँ . समय मिले तो ब्लॉग पर आ कर अनुग्रहित कीजियेगा .

नीरज
http://ngoswami.blogspot.com

shyam Gupta ने कहा…

धन्यवाद नीरज जी....अवश्य ..

-- वो आये तो हमारे यहाँ
आये हों चाहे जिस बहाने