saahityshyamसाहित्य श्याम

VideoBar

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

यह ब्लॉग खोजें

Gadget

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

बुधवार, 10 फ़रवरी 2016

"तुम तुम और तुम". के गीत--- ९३.... आख़िर क्यूं ये पुरवा आई --- डा श्याम गुप्त

                                      कविता की भाव-गुणवत्ता के लिए समर्पित



नूतन वर्ष में .मेरे ..श्रृंगार व प्रेम गीतों की शीघ्र प्रकाश्य कृति ......"तुम तुम और तुम". के गीतों को यहाँ पोस्ट किया जा रहा है -----प्रस्तुत है गीत--- ९३....

आख़िर क्यूं ये पुरवा आई ---

मन की प्रीति पुरानी को , क्यों हवा दे गयी ये पुरवाई ।
सुख की नींद व्यथा सोयी थी ,आख़िर ये क्यों पुरवा आई?


हम खुश खुश थे जिए जारहे ,जीवन सुख रस पिए जारहे ,
मस्त मगन सुख की नगरी में ,सारा सुख सुंदर गगरी में ;
सुस्त पडी उस प्रीति रीति को,छेड़ गयी क्यों ये पुरवाई ।

प्रीति-वियोग के भ्रम की बाती,जलती मन में विरह कथा सी
 गीत छंद रस भाव भिगोये, ढलती बनकर मीत व्यथा सी ;
पुरवा जब संदेशा लाई , मिलने का अंदेशा लाई ।

कैसे उनका करें सामना, कैसे मन को धीर बंधेगी ,
पहलू में जब गैर के उनको, देख जले मन प्रीति छलेगी ;
कैसे फ़िर ये दिल संभलेगा , मन ही तो है मन मचलेगा|

क्यों ये पुरवा फ़िर से आई, क्यों नूतन संदेशा लाई |
मन की प्रीति पुरानी को , क्यों हवा दे गयी ये पुरवाई ॥


कोई टिप्पणी नहीं: