saahityshyamसाहित्य श्याम

VideoBar

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

यह ब्लॉग खोजें

Gadget

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

सोमवार, 16 जुलाई 2012

शाश्वत सुख...प्रेम-काव्य ..एकादश -सुमनांजलि (..अंतिम-सुमनांजलि)-- रचना-२ ..... डा श्याम गुप्त

                                              कविता की भाव-गुणवत्ता के लिए समर्पित


                                             
                प्रेम  -- किसी एक तुला द्वारा नहीं तौला जा सकता, किसी एक नियम द्वारा नियमित नहीं किया जा सकता; वह एक विहंगम भाव है  | प्रस्तुत है-- इस काव्य-कृति की अंतिम व एकादश  सुमनान्जलि- अमृतत्व --जो मानव जीवन का अंतिम लक्ष्य व सोपान है  वह प्रेम, भक्ति, कर्म , योग, ज्ञान   चाहे जिस 
 मार्ग से आगे बढे .. ----इस सुमनांजलि में...जीवन-सुख, शाश्वत-सुख, ज्ञानामृत, परमार्थ एवं मोक्षदा एकादश ....अदि पांच रचनाएँ प्रस्तुत की जायेंगी | प्रस्तुत है .. द्वितीय रचना....शाश्वत सुख....
       शाश्वत  सुख 

शाश्वत सुख की गठरी तो बंदे ,
 तेरे   अन्तर्हृदय  बसी  है |
अंतर के पट खोल बावरे,
तृप्ति नदी उर बीच  सजी है |


आनंदानुभूति  का  सागर ,
मन के अंदर लहराता है |
अक्षय परमानंद पयस्विनि ,
मन के हिमगिरि बीच रची है ||


जग के सुख सागर में डूबे,
प्रेम-प्रीति के सुख मन भाये |
रिश्ते-नाते , मोह भावना,
रीति-नीति, उपभोग सुहाए |


रिद्धि-सिद्धि सत्ता सुख भारी,

कम-तृप्ति आनंद विचारी |
श्रवण  नेत्र रसना सुख सारे,
कहाँ तृप्ति, बहु भांति सँवारे |


बहु विधि हाट-विलास सजी है,
प्रेम-नदी  उर बीच  बसी  है  |
शाश्वत सुख की गठरी तो बंदे ,
तेरे  अन्तर्हृदय   बसी    है ||

अंतर्मन  में झाँक सके तो ,
मन की पुस्तक बांच सके तो |
कितने हमने पुण्य कमाए ,
कितने पल-छिन व्यर्थ गँवाए |

कितनों  की पीढा को समझा,
कितने परहित किये किसी के?
कितने वलिदानी   वीरों  की ,
राहों पर हम चलना सीखे ?

कितना  अपना धर्म निभाया ,
कितना अपना कर्म सजाया |
कितने ज्ञान-भाव उर उभरे,
कितना प्रभु से नेह लगाया |


यदि मन प्रभु की प्रीति बसी है,
जन-जन जग की प्रीति सजी है |
यही मुक्ति है इस तन मन में,
परमानंद  विभूति  सजी  है ||




अंतर के पट खोल बावरे,
तृप्ति नदी उर बीच  सजी है |
शाश्वत सुख की गठरी तो बंदे ,
 तेरे   अन्तर्हृदय  बसी  है |

















कोई टिप्पणी नहीं: