saahityshyamसाहित्य श्याम

VideoBar

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

यह ब्लॉग खोजें

Gadget

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

बुधवार, 2 मार्च 2016

तुम तुम और तुम". के गीत --- गीत-१५ ... धड़कन ...

                                 कविता की भाव-गुणवत्ता के लिए समर्पित    


तन वर्ष में .मेरे ..श्रृंगार व प्रेम गीतों की शीघ्र प्रकाश्य कृति ......"तुम तुम और तुम". के गीतों को यहाँ पोस्ट किया जा रहा है -----प्रस्तुत है गीत-१५ ...
धड़कन
यह कौन आरहा है
धीमे से चुपके चुपके |
यह आज किसके पग की,
पायल सी बज रही है |


पहचानता हूँ तेरी,
पायल की ध्वनि सुहानी |
मैं जानता हूँ तुम ही ,
चुपके से आरही हो |

भावों में मन की छलके,
कोई खुशी अजानी |
पायल के स्वर में दिल की
धड़कन छुपा रही हो |

मैं जानता हूँ तुम ही,
चुपके से आरही हो |
कानों में बन के सरगम,
तुम ही समा रही हो ||

कोई टिप्पणी नहीं: