saahityshyamसाहित्य श्याम

VideoBar

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

यह ब्लॉग खोजें

Gadget

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

मंगलवार, 28 जुलाई 2009

राधा कौन? एक मत यह भी।

चित्रकूट पर जयन्त- काग प्रसन्ग---

समझाया था भार्या ने भी,
देवान्गना नाम सुकुमारी;
रूपवती विदुषी नारी थी।
भक्तिभाव,सतव्रत अनुगामिनि।
समझ न पाया अहंभाव में,
विधि इच्छा पर कब किसका वश।

रघुवर-बल की करूं परीक्षा,
सोचा,धरकर रूप काग का;
चोंच मारकर सिय चरणों में,
लगा भागने मूढ अभागा।
एक सींक को चढा धनुष पर,
छोड दिया पीछे रघुबर ने।

देवान्गना ने किया उग्र तप,
यदि में प्रभु की सत्य पुजारिन,
क्षमा करें अपराध हरि प्रिया,
प्रभु द्रोह-पाप से मुक्ति मिले;
जीवन दान मिले जयंत को,
अनुपम प्रीति राम की पाऊं

धरकर राधा रूप बनी वह,
पुनर्जन्म में प्रिया-पुजारिन;
भक्ति-प्रीति की एक साधना,
स्वयं ईश की जो आराधना;
सफ़ल हुआ तप पूर्ण साधना,
कृष्ण रूप में, राम मिले थे॥
--------शूर्पणखा-काव्य उपन्यास से।

कोई टिप्पणी नहीं: