saahityshyamसाहित्य श्याम

VideoBar

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

यह ब्लॉग खोजें

Gadget

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

गुरुवार, 30 जुलाई 2009

काव्य-दूत --क्रमशः -

अपन-तुपन
मेरे रूठ कर चले आने पर ,
पीछे -पीछे आकर
'चलो अपन-तुपन खेलें '
माँ के सामने यह कहकर
हाथ पकड़कर ,
आंखों में आंसू भरकर ,
तुम मना ही लेतीं थी ,मुझे -
इस अमोघ अस्त्र से ;
बार-बार ,
हर बार ।
सारा क्रोध ,
गिले शिकवे ,
काफूर हो जाते थे ;
और, बाहों में बाहें डाले ,
फ़िर चल देते थे -
खेलने ,
हम-तुम
अपन-तुपन ॥


माया
माया सी लटपटी ,
वो छरहरी ,तवंगी ,
सांवली सुरतिया थी ,
कान्हा की प्रतिबिम्बी ।

मसालों की बेटी ,
लाल मिर्च की सहेली ;
तीन लोक से न्यारी ,
थी सबसे अकेली ।

मुंडेर की रेल की ,
थी परमानेंट इंजन ;
थी सब में ही आगे ,
हो कुश्ती या भाषण ।

वो साँसों की गिनती ,
हो सीधी या उलटी ;
कहाँ खोगई ,जो-
थी पल-पल झगड़ती ॥


सुहाना जीवन
छत पर ,वरांडे में या -
जीने की ऊपर वाली सीढी पर ,
खेलते हुए ,या-
लड़ते हुए ;
तुमने लिया था ,सदैव-
मेरा ही पक्ष ।
मेरे न खेलने पर ,
तुम्हारा भी वाक्-आउट ;
मेरे झगड़ने पर
पीट देने पर भी -
तुम्हारा मुस्कुराना ;
एक दूसरे से नाराज़ होने पर ,
बार-बार मनाना ;
जीवन कितना था सुहाना ,
हे सखि !
जीवन कितना था सुहाना ॥


यादों के झरोखे
यादों के झरोखे से
जब तुम मुस्कुराती हो ,
मन में इक नई उमंग ,
नई कान्ति बनकर आती हो ।

उस साल तुम,अपनी -
नानी के यहाँ आई थी ;
सारे मोहल्ले में ,एक-
नई रोशनी सी लाई थी ।

वो घना सा रूप,
वो घनी केश राशि ;
हर बात में घने-घने -
कहने की अभिलाषी ।

उसके बाग़ की,बगीचों की,
फूल पत्ते ओ नगीनों की ;
हर बात थी घनेरी-घनेरी ,
जैसे आदत हो हसीनों की।


गरमी की छुट्टी में ,
मैं आऊँगी फ़िर,
चलते-चलते ,तुमने
कहा था होके अधीर ।

अब न वो गरमी आती है ,
न वैसी गरमी की छुट्टी ।
शायद करली है तुमने ,
मेरे से पूरी कुट्टी॥
------क्रमशः

कोई टिप्पणी नहीं: