saahityshyamसाहित्य श्याम

VideoBar

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

यह ब्लॉग खोजें

Gadget

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

बुधवार, 8 जुलाई 2009

एक वर्षा गीत---आई रे बरखा बहार.--....।

झर झर झर,
जल बरसावें मेघ;
टप टप बूंद गिरें,
भीजै रे अंगनवा , हो....
आई रे बरखा बहार,हो....।
धडक धडक धड,
धडके हियरवा ,हो॥
आये न सजना हमार..हो...;
आई रे बरखा बहार॥

कैसे सखि झूला सोहै,
कज़री के बोल भावें;
अंखियन नींद नहिं,
ज़ियरा न चैन आवै।
कैसे सोहैंसोलह श्रृंगार ॥हो...
आये न सजना हमार॥

आये परदेशी घन,
धरती मगन मन;
हरियावे तन,पाय-
पिय का सन्देसवा।
गूंजे नभ मेघ-मल्हार ..हो....
आये न सजना हमार॥

घन जब जाओ तुमि,
जल भरने को पुनि;
गरजि गरजि दीजो,
पिय को संदेसवा।
कैसे जिये धनि ये तोहार...हो....
आये न सजना हमार॥

5 टिप्‍पणियां:

हल्ला बोल ने कहा…

धार्मिक मुद्दों पर परिचर्चा करने से आप घबराते क्यों है, आप अच्छी तरह जानते हैं बिना बात किये विवाद ख़त्म नहीं होते. धार्मिक चर्चाओ का पहला मंच ,
यदि आप भारत माँ के सच्चे सपूत है. धर्म का पालन करने वाले हिन्दू हैं तो
आईये " हल्ला बोल" के समर्थक बनकर धर्म और देश की आवाज़ बुलंद कीजिये...
अपने लेख को हिन्दुओ की आवाज़ बनायें.
इस ब्लॉग के लेखक बनने के लिए. हमें इ-मेल करें.
हमारा पता है.... hindukiawaz@gmail.com
समय मिले तो इस पोस्ट को देखकर अपने विचार अवश्य दे
देशभक्त हिन्दू ब्लोगरो का पहला साझा मंच
हल्ला बोल

Surendra shukla" Bhramar"5 ने कहा…

आदरणीय श्याम गुप्त जी सुन्दर और सराहनीय प्रयास आप का साहित्य को बचाने की लिए -एक और कोशिश कीजियेगा पहले जो शब्दों को तोड़ मरोड़ लिखा जाता था अपभ्रंश आदि से बचियेगा -
निम्न शब्द जो आप ने लिखा संदेस को कृपया सन्देश लिखा करें लोग उचित सीखें
मेघ मल्हा क्या है ?? --कहीं आप का मतलब मल्हार से तो नहीं ?? कविताओं में तुकांत अब उतना मायने अब नहीं रखता पुनि के लिए तुमि
शुक्ल भ्रमर ५

डा. श्याम गुप्त ने कहा…

----भ्रमर जी...धन्यवाद जो आप इस ब्लॉग पर पधारे ...और कुछ अशुद्धि इंगित की.....
----वह शब्द मल्हार ही है, टाइपिंग में छूट जाने से मल्हा...ही रहगया ...यह कोइ अशुद्धि नहीं... काव्यशास्त्र ज्ञाता लोग , नीचे के तुकांत से और शब्द ज्ञान से पता लगा लेते हैं कि वास्तविकता क्या है.....खैर शब्द पूरा कर दिया गया है...
---जहां तक सन्देश /संदेश..का सवाल है खड़ी बोली में दोनों ही प्रचलन में हैं ..परन्तु यहाँ ..देशज( ब्रज अंचल की --सम्पूर्ण गीत ही उसी भाषा में है न कि खडी बोली में ) भाषा का शब्द ..संदेसवा ..प्रयोग हुआ है जो उपयुक्त व उचित ही है...
---आपने लिखा है कि --"कविताओं में तुकांत अब उतना मायने अब नहीं रखता.."---क्या तुकांत कविता के नियम बदल गए हैं....किसने बदले.? आपको जानना चाहिए ..कविता ही दो प्रकार की होती है ..तुकांत व अतुकांत ...कभी मेरे ब्लॉग पर अतुकांत कविता व अगीत पर मेरे आलेख पढ़िए ...जान जायेंगे...
---मुझे प्रसन्नता है कि आप हिन्दी भाषा पर ध्यान दे रहे हैं ...आभार ..

Surendra shukla" Bhramar"5 ने कहा…

श्याम जी जानकारी के लिए धन्यवाद -
साहित्य और शास्त्र में आप की रूचि देख -आप की शल्य क्रिया देख अच्छा लगा -परदेशी को भी परदेसी तब तो लिखना था -
हम हिंदी भाषा विशेषकर खड़ी बोली-देवनागरी और अवधी से ही अधिक परिचित हैं -
आज कल बच्चे और कुछ लोग परदेसी -संदेस लिखेंगे हर जगह तो परीक्षा में .......
हिंदी भाषा ही नहीं बहुत कुछ सीखना है श्याम जी अंत तक -
आभार आप का -अपना सुझाव व् समर्थन देते रहें
शुक्ल भ्रमर५

डा. श्याम गुप्त ने कहा…

बिलकुल सही कहा..यह परदेसी ही होना चाहिए...
---परीक्षा यदि हिन्दी( जिसका अर्थ खड़ी बोली ही है) की है तो उन्हें शुद्ध खड़ी बोली में ही लिखना चाहिए न कि हिन्दी की अन्य बोलियों में ....भ्रम का कोइ सवाल ही नहीं है...