saahityshyamसाहित्य श्याम

VideoBar

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

यह ब्लॉग खोजें

Gadget

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

शुक्रवार, 15 जून 2012

अहं-ब्रह्मास्मि....प्रेम काव्य--दशम सुमनान्जलि- अध्यात्म.....रचना-३..


                                         कविता की भाव-गुणवत्ता के लिए समर्पित
                                    प्रेम  -- किसी एक तुला द्वारा नहीं तौला जा सकता, किसी एक नियम द्वारा नियमित नहीं किया जा सकता; वह एक विहंगम भाव है  | प्रस्तुत है-- दशम  सुमनान्जलि- अध्यात्म  ----इस सुमनांजलि में पांच  रचनाएँ....तुच्छ बूँद सा जीवन,  प्रभु ने जो यह जगत बनाया, अहं-ब्रह्मास्मि ,  ब्रह्म-प्राप्ति  तथा  परमानंद ...प्रस्तुत की जायंगी | प्रस्तुत है ...तृतीय  रचना...

अहं-ब्रह्मास्मि

मैं   ही  वह   देवाधिदेव   हूँ ,
द्वेष  और ईर्ष्या अलिप्त हूं |
अजर -अमर हूँ मैं ईश्वर हूँ ,
परमानंद  मैं परम शिव हूँ ||


मैं अनंत हूँ सर्वश्रेष्ठ हूँ,
पुरुष के रूप भोग-आनंद |
जिस " मैं " को अनुभव सब करते,
मैं   ही  हूँ  वह   शब्द अनंत ||




मैं आनंदघन और ज्ञान घन ,

सुखानुभूति, अनुभव, आनंद |
उपनिषदों  का  ज्ञाता  मैं  हूँ,
विश्व-रूप  अज्ञान अनंत ||


वाद तर्क और जिज्ञासा से,
प्राप्त तत्त्व जो, मुझे ही जान |
मैं ऋषि ,सृष्टा सृजन-क्रिया हूँ , 
समय का सृष्टा मुझको  मान ||


तृप्ति प्रगति समृद्धि दीप हूँ,
आनंदमय और पूर्ण प्रकाश |
अंदर-बाहर व्याप्त रहूँ मैं,
प्राण रहित सब जग में वास ||


ज्ञान ज्ञेय ज्ञाता मैं ही हूँ ,
परे ज्ञान से परम तत्व हूँ |
मैं निर्गुण, निष्क्रिय  शाश्वत हूँ ,
निर्विकार हूँ, नित्य मुक्त हूँ ||


औषधियों का ओज-तत्व हूँ ,

सारा जग मेरा आभासी|
मैं निर्लिप्त अमल अविनाशी,
मैं ही सारा जगत प्रकाशी ||



मैं मन नहीं आत्म अविनाशी,

सत्य रूप अंतर-घट बासी |
त्याज्य ग्राह्य से भाव रहित हूँ,
परमब्रह्म मैं घट-घट बासी ||

                                                                                        ----चित्र गूगल साभार...  



 

कोई टिप्पणी नहीं: