saahityshyamसाहित्य श्याम

VideoBar

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

यह ब्लॉग खोजें

Gadget

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

शुक्रवार, 4 जून 2010

शूर्पणखा -काव्य उपन्यास -वन्दना खन्ड ..क्रमश ....

वंदना  --क्रमश |
         ७.
भाव स्वरों के श्रेष्ठ ज्ञान से,
तत्व ज्ञान के स्वर मिलते हैं |
फलित ज्ञान होजाता नर को,
तब होपाता ज्योति-दीप सा |
ज्ञान ज्योति से ज्योति जले जग,
मिटे  तमिस्रा,   नव प्रभात हो |
         ८.
सर्व ज्ञान सम्पन्न विविध नर,
सभी,  एक से  कब होते हैं  |
अनुभव, तप, श्रृद्धा व भावना ,
होते सब के भिन्न भिन्न हैं |
भरे जलाशय , ऊपर समतल,
होते   ऊंचे- नीचे   तल  में |
      ९.
केवल बुद्धि ज्ञान क्षमता से ,
गूढ़ ज्ञान के अर्थ न मिलते;
गूढ़ ज्ञान के तत्व प्राप्तु हित,
निर्मल मन, तप,योग चाहिए |
उसी साधना रत सुपात्र को,
गूढ़ ज्ञान का तत्व मिला है| 
  १०.
ऐसे साधक को सुपात्र को,
मातु वाग्देवी की महिमा;
दैविक, गुरु या अन्य सूत्र से,
मन में ज्योतित भाव जगाती |
श्रृद्धा और स्नेह भाव मिल ,
 ज्ञान तत्व का अमृत मिलता |  
  ११.
माँ की कृपा नहीं होती है,
भक्ति भाव भी उर न उमंगते ;
श्रृद्धा और स्नेह भाव भी,
उस मानस में नही उभरता |
भक्ति भाव उर बसे हे माता!
चरणों का मराल बन पाऊँ |
      
        १२.
श्रम, विचार व कला भाव के,
अर्थपरक और ज्ञान रूप की;
सब विद्याएँ करें प्रवाहित ,
सकल भुवन में माँ कल्याणी |
ज्ञान रसातल पड़े  'श्याम को,
भी कुछ वाणी-स्वर-कण दो माँ ||

कोई टिप्पणी नहीं: