saahityshyamसाहित्य श्याम

VideoBar

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

यह ब्लॉग खोजें

Gadget

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

मंगलवार, 15 जून 2010

शूर्पणखा काव्य-उपन्यास..आगे ..विनय...

                      विनय 
कमला के कान्त की शरण, धर पंकज कर,
श्याम की विनय है यही कमलाकांत से  |
भारत विशाल की ध्वजा  फहरे विश्व में,
कीर्ति-कुमुदिनी, नित्य मिले निशाकांत से |


हृदय कमल बसें , शेष शायी नारायण,
कान्हा रूप श्री हरि, मन में विहार करें |
सीतापति राम रूप, मन में बसें नित,
लीलाम्बुधि विष्णु,इन नैनन निवास करें |


लौकिक अलौकिक भाव दिन दिन वृद्धि पांय,
श्री हरि प्रदान सुख-सम्पति, सुसम्मति करें |
प्रीति सुमन खिलें जग,जैसे रवि कृपा नित,
फूलें सर पंकज , वायु, जल, महि गति भरें |


पाप-दोष, भ्रम-शोक, देव सभी मिट जायं ,
उंच-नीच,  भेद -भाव,  इस  देश से मिटें |
भारत औ भारती ,  बने पुनः विश्वगुरु ,
ज्ञान दीप जलें , अज्ञानता के घन छटें |


कृष्ण रूप गीता ज्ञान, मुरली लिए कर,
राम रूप धनु-बान , कर लिए एक बार |
भारत के जन मन में, पुनः निवास करें ,
'श्याम' की विनय यही,कर जोरि बार बार ||

कोई टिप्पणी नहीं: