saahityshyamसाहित्य श्याम

VideoBar

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

यह ब्लॉग खोजें

Gadget

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

शनिवार, 1 अक्तूबर 2011

प्रेमकाव्य-महाकाव्य. षष्ठ सुमनान्जलि (क्रमश:)-खंड ग-वियोग श्रृंगार ..गीत दो ......डा श्याम गुप्त

                                                             
                                                  कविता की भाव-गुणवत्ता के लिए समर्पि

                    प्रेम -- किसी एक तुला द्वारा नहीं तौला जा सकता , किसी एक नियम द्वारा नियमित नहीं किया जासकता ; वह एक विहंगम भाव है | प्रस्तुत है ..षष्ठ -सुमनान्जलि....रस श्रृंगार... इस सुमनांजलि में प्रेम के श्रृंगारिक भाव का वर्णन किया जायगा ...जो तीन खण्डों में ......(क)..संयोग श्रृंगार....(ख)..ऋतु-श्रृंगार तथा (ग)..वियोग श्रृंगार ....में दर्शाया गया है.....          प्रस्तुत है   खंड ग ..वियोग श्रृंगार -जिसमें -पागल मन, मेरा प्रेमी मन, कैसा लगता है, तनहा तनहा रात में, आई प्रेम बहार, छेड़ गया कोई, कौन, इन्द्रधनुष एवं बनी रहे ...नौ रचनाएँ प्रस्तुत की जायंगी | प्रस्तुत है

द्वितीय गीत

 
....प्रेमी मन .....
जाने क्यों मेरा प्रेमी मन ,
अकुलाता रहता है ?
यादों में तेरी, मन पंछी,
चहचाता रहता है |
तेरी ही स्वर लहरी में प्रिय,
यह गाता रहता है ||

तेरे गीतों की सरगम ही,
इस मन  को भाती है |
तेरे सुर्ख लवों की थिरकन,
मन को महकाती है |
यादें बिसरा देना चाहे,
पर न भुला पाता है |    ------जाने क्यों.....||

क्या जाने निज नीड़ से कहाँ,
यह उड़ उड़ जाता है ? 
तेरी पाती की आशा में ,
लौट लौट आता है |
प्रेम संदेशा ही मिल जाए,
बरबस मुस्काता है |
तनहाई में यादों के ही ,
स्वप्न सजाता है |
प्रेम-मिलन की यादों को,
दोहराता रहता है |     -----जाने क्यों ......||

जब जब दूर चले जाते हो ,
तुम मन की नगरी से |
छलक छलक उठता है निर्झर ,
इस मन की गगरी से |
घायल मन तो सहरा सहरा,
भटक भटक गाता है |
सागर हो या नदी किनारा,
प्यासा ही रहता है |
प्यासे तन मन को यादों से,
सहलाता रहता है |
फिर भी यह मन मेरा ,हे प्रिय!
आँखें भर लाता है |
तेरे गीतों की सरगम को ,
यह गाता रहता है |    -----जाने क्यों ....||

4 टिप्‍पणियां:

mahendra verma ने कहा…

जब जब दूर चले जाते हो ,
तुम मन की नगरी से |
छलक छलक उठता है निर्झर ,
इस मन की गगरी से |

मन को सहलाती हुई सुंदर रचना।
यादों को याद करना कितना कोमल और शांतिदायक होता है !

amrendra "amar" ने कहा…

बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति| धन्यवाद|

डा. श्याम गुप्त ने कहा…

धन्यवाद महेंद्र जी ....ये यादें मन की पूंजी हैं....

डा. श्याम गुप्त ने कहा…

धन्यवाद अमर जी...