saahityshyamसाहित्य श्याम

VideoBar

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

यह ब्लॉग खोजें

Gadget

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

सोमवार, 3 अक्तूबर 2011

प्रेमकाव्य-महाकाव्य. षष्ठ सुमनान्जलि (क्रमश:)-खंड ग-वियोग श्रृंगार ..गीत तीन ......डा श्याम गुप्त

                                              कविता की भाव-गुणवत्ता के लिए समर्पित







               प्रेम -- किसी एक तुला द्वारा नहीं तौला जा सकता , किसी 
एक नियम द्वारा नियमित नहीं किया जासकता ; वह एक विहंगम भाव है | प्रस्तुत है ..षष्ठ -सुमनान्जलि....रस श्रृंगार... इस सुमनांजलि में प्रेम के श्रृंगारिक भाव का वर्णन किया जायगा ...जो तीन खण्डों में ......(क)..संयोग श्रृंगार....(ख)..ऋतु-श्रृंगार तथा (ग)..वियोग श्रृंगार ....में दर्शाया गया है.....          प्रस्तुत है   खंड ग ..वियोग श्रृंगार --जिसमें --पागल मन,  मेरा प्रेमी मन,  कैसा लगता है,  तनहा तनहा रात में,  आई प्रेम बहार,  छेड़ गया कोई,  कौन,  इन्द्रधनुष एवं  बनी रहे ......नौ रचनाएँ प्रस्तुत की जायंगी | प्रस्तुत है.. ....  तृतीय  रचना...कैसा लगता है....

प्रीति-रीति बिसरादे प्रिय जब,
कैसा लगता है |
टूटा कोई स्वप्न सुहाना,
ऐसा लगता है ||

जब साहिल से नाव दूर हो,
तूफां आजाये |
बीच भँवर पतवार हाथ से,
छूटे बह जाए |
दे  न किनारा कहीं दिखाई ,
कैसा लगता है |
जैसे टूट गया दिल कोई ,
ऐसा लगता है |
प्रीति-रीति बिसरादे प्रिय जब,
कैसा लगता है ||
प्रीति  रीति क्यों बिसराई, यह-
मन न समझ पाया |
क्यों हो आज पराये, तुम थे-
तन मन की छाया |
दूर चले जाएँ इस जग से,
ऐसा लगता है |
तुम कहदो यूं मेरा जाना,
कैसा लगता है |
टूटा मन का स्वप्न सुहाना ,
ऐसा लगता है ||

प्रीति रीति बिसरादे प्रिय जब,
कैसा लगता है |
टूटा कोई स्वप्न सुहाना,
ऐसा लगता है ||

2 टिप्‍पणियां:

mahendra verma ने कहा…

बहुत सुंदर और प्रभावशाली रचना।

डा. श्याम गुप्त ने कहा…

धन्यवाद वर्मा जी....