saahityshyamसाहित्य श्याम

VideoBar

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

यह ब्लॉग खोजें

Gadget

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

शुक्रवार, 22 मई 2009

साहित्य

साहित्य = सा + हिताय + य == अर्थात जो समाज ,संस्कृति ,समनस के व्यापक हित में हो वह ही साहित्य है।
साहित्य के प्रमुख उद्देश्य होने चाहिये ---
(1) सम्पूर्ण ग्यान का अनुशासन ( ग्यान का  कोष व ज्ञान की प्रतिष्ठापना ),शास्त्रीय पद्धति से जीवन -जगत का बोध (२) जन रंजन के साथ स्वान्त व्यक्तित्व -समष्टि निर्माण की प्रेरणा से सुखानंद, काव्यानंद द्वारा ब्रह्मानंद सुख ।(३) काव्य सुरसिकता द्वारा जन-जन युग प्रबोधन ,जीवन मूल्यों का संदेश व व्यक्ति व समष्टि निर्माण की प्रेरणा । इनसे भिन्न ---ज्ञान का लेखन तो -समाचार बाचन,या तुक बंदी ही रह जायगा ।
आज सूचना युग में सारा ज्ञान कंप्यूटर से मिलजाने के कारण , इलेक्ट्रोनिक मीडिया ,दूर दर्शन आदि से सुखानंद प्राप्ति,व उपभोक्तावादी संस्कृति के प्रभाव से उपरोक्त तीनों प्रयोजन निष्प्रभावी होजाने से कविता की समाज में निश्प्रभाविता बढ़ी है।
प्रायः यह कहा जाने लगा है कि कवि को भी बाज़ार, प्रचार आदि के आधुनिक हथकंडे अपनाने होंगे । परन्तु प्रश्न है कि यदि कवि यह सब करने लगे तो वह ह्रदय से उदभूतकविता कैसे रचेगा? वह भी व्यापारी नहीं बन जायगा? क्या स्वयं समाज का कविता,कवि व समाज के व्यापक हित के प्रति कोई कर्तव्य नहीं है ? ताली दौनों हाथों से बज़ती है।

कोई टिप्पणी नहीं: