saahityshyamसाहित्य श्याम

VideoBar

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

यह ब्लॉग खोजें

Gadget

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

मंगलवार, 26 मई 2009

अपन-तुपन

मेरे रूठकर चले आने पर,
पीछे-पीछे आकर,
"चलो अपन-तुपन खेलेंगे",
मां के सामने यह कहकर,
हाथ पकड्कर ,
आंखों में आंसू भर कर,
तुम मना ही लेती थीं, मुझे,
इस अमोघ अस्त्र से ,
बार-बार,हर बार ।

सारा क्रोध,गिले-शिकवे ,
काफ़ूर होजाते थे , ओर-
बाहों में बाहें डाले ,
फ़िर चल देते थे , खेलने ,
हम-तुम,
अपन-तुपन॥    ----(१९६२-काव्यदूत)

कोई टिप्पणी नहीं: