saahityshyamसाहित्य श्याम

VideoBar

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

यह ब्लॉग खोजें

मंगलवार, 26 मई 2009

अपन-तुपन

मेरे रूठकर चले आने पर,
पीछे-पीछे आकर,
"चलो अपन-तुपन खेलेंगे",
मां के सामने यह कहकर,
हाथ पकड्कर ,
आंखों में आंसू भर कर,
तुम मना ही लेती थीं, मुझे,
इस अमोघ अस्त्र से ,
बार-बार,हर बार ।

सारा क्रोध,गिले-शिकवे ,
काफ़ूर होजाते थे , ओर-
बाहों में बाहें डाले ,
फ़िर चल देते थे , खेलने ,
हम-तुम,
अपन-तुपन॥    ----(१९६२-काव्यदूत)

कोई टिप्पणी नहीं: