saahityshyamसाहित्य श्याम

VideoBar

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

यह ब्लॉग खोजें

Gadget

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

शुक्रवार, 22 मई 2009

ज़िंदगी

मुक्तक
ज़िंदगी तेरे पास आख़िर नया क्या है,
पैदा होना ,जीना मरना और क्या है।
क्यों तुझे घुट -घुट के फ़िर इंसां जिए ,
मौत से ज्यादा यहाँ कुछ और क्या है।

ज़िंदगी के पास आख़िर और क्या है,
मौत के ही सिवा आख़िर राज़ क्या है।
क्यों न जोशो-जुनूँसे इसको जियें ,
हँसनेजीने जे बिना जीना भी क्या है॥

कोई टिप्पणी नहीं: