saahityshyamसाहित्य श्याम

VideoBar

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

यह ब्लॉग खोजें

Gadget

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

बुधवार, 27 मई 2009

कहानी हमारी -तुम्हारी


ये दुनिया हमारी सुहानी न होती ,कहानी ये अपनी कहानी न होती ।
ज़मीं चाँद -तारे सुहाने न होते ,जो प्रिय तुम न होते ,अगर तुम न होते।
न ये प्यार होता ,ये इकरार होता ,न साजन की गलियाँ ,न सुखसार होता।
ये रस्में न क़समें ,कहानी न होतीं ,ज़माने की सारी रवानी न होती ।
हमारी सफलता की सारी कहानी ,तेरे प्रेम की नीति की सब निशानी ।
ये सुंदर कथाएं फ़साने न होते ,सजनी! तुम न होते,जो सखि!तुम न होते ।
तुम्हारी प्रशस्ति जो जग ने बखानी,कि तुम प्यार-ममता की मूरत,निशानी ।
ये अहसान तेरा सारे जहाँ पर , तेरे त्याग -द्रढता की सारी कहानी ।
ज़रा सोचलो कैसे परवान चढ़ते,हमीं जब न होते ,जो यदि हम न होते।
हमीं हैं तो तुम हो सारा जहाँ है , जो तुम हो तो हम है, सारा जहाँ है।
अगर हम न लिखते ,अगर हम न कहते ,भला गीत कैसे तुम्हारे ये बनते।
किसे रोकते तुम, किसे टोकते तुम ,ये इसरार इनकार ,तुम कैसे करते ।
कहानी हमारी -तुम्हारी न होती ,न ये गीत होते, न संगीत होता।
सुमुखि !तुम अगर जो हमारे न होते,सजनि!जो अगर हम तुम्हारे न होते॥

कोई टिप्पणी नहीं: