saahityshyamसाहित्य श्याम

VideoBar

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

यह ब्लॉग खोजें

Gadget

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

शनिवार, 6 जून 2009

श्याम लीला -२ --नाग -नथैया--जल प्रदूषण

१.
कालिंदी का तीर औ ' वंशी -धुन की टेर,
गोप-गोपिका मंडली , नगर लगाती फेर ।
नगर लगाती फेर ,सभी को यह समझाती ,
ग्राम,नगर की सभी गन्दगी जल में जाती ।
विष सम काला दूषित जल है यहाँ नदी का ,
बना सहस-फन नाग ,कालिया कालिंदी का।।

२.
यमुना तट पर श्याम ने वंशी दई बजाय,
चहुँ -दिशि,मोहिनि फेरकर,सबको लिया बुलाय।
सब को लिया बुलाय , प्रदूषित यमुना भारी ,
करें सभी श्रम दान , स्वच्छ हो नदिया सारी ।
तोड़ किया विष हीन , प्रदूषण नाग का नथुना ,
फन-फन नाचे श्याम,झरर-झर झूमी यमुना ॥

1 टिप्पणी:

Babli ने कहा…

बहुत ही शानदार लिखा है आपने कि कहने के लिए अल्फाज़ नहीं है!