saahityshyamसाहित्य श्याम

VideoBar

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

यह ब्लॉग खोजें

Gadget

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

शुक्रवार, 19 जून 2009

कुछ त्रिपदा अगीत --

तुमसे मिलने की खुशी भी है ,
न मिल पाने का गम भी;
कितने गम हैं जमाने में।

खडे सडक इस पार रहे हम,
खडे सडक उस पार रहे तुम;
बीच में दुनिया रही भागती।

कहके वफ़ा करेंगे सदा,
वो ज़फ़ा करते रहे यारो;
ये कैसा सिला है बहारो।

तेरे सन्ग हर रितु मस्तानी,
हर बात लगे नई कहानी;
रात दिवानी सुबह सुहानी।

बात क्या बागे-बहारों की,
बात न हो चांद सितारों की;
बात बस तेरे इशारों की।

चाहत थी हम कहें बहुत कुछ,
तुम हर लम्हा रहे लज़ाते;
हम कसमसाते ही रह गये।

चर्चायें थीं स्वर्ग नरक की,
देखी तेरी वफ़ा-ज़फ़ा तो;
दोनों पाये तेरे द्वारे।।

कोई टिप्पणी नहीं: