saahityshyamसाहित्य श्याम

VideoBar

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

यह ब्लॉग खोजें

Gadget

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

सोमवार, 15 जून 2009

श्याम लीला--४,गोवर्धन धारण--कुंडली- छन्द

१.

जल अति भारी बरसता,व्रन्दावन के धाम,
हर वर्षा रितु डूबते , ब्रन्दावन के ग्राम ।
व्रन्दावन के ग्राम सभी सहते दुख भारी,
श्याम कहा समझाय,सुनें सब ही नर-नारी।
ऊंचे गिरि तल बसें,छोड नीचा धरती तल,
फ़िर न भरेगा ग्राम,ग्रहों में बर्षा का जल ॥

२.
पूजा नित-प्रति इन्द्र की,क्यों करते सब लोग,
गोवर्धन पूजें नहीं, जो पूजा के योग ।
जो पूजा के योग , सोचते क्यों नहीं सभी ,
देता पशु,धनधान्य,फ़ूल-फ़ल,सुखद वास भी।
हितकारी है ’ श्याम, न गोवर्धन सा दूजा,
करें नित्य ब्रज-ब्रन्द, सभी गोवर्धन पूजा ॥

३.

सुरपति जब करने लगा, महाव्रष्टि व्रज धाम,
गोवर्धन गिरि बसाये,व्रज बासी घन श्याम।
व्रज बासी घन श्याम ,गोप,गोपी,सखि, राधा,
रखते सबका ध्यान, न आती कुछ भी बाधा ।
उठा लिया गिरि कान्ह,कहें ब्रज बाल-ब्रन्द सब,
चली न कोई चाल, श्याम यूं हारा सुरपति॥

कोई टिप्पणी नहीं: