saahityshyamसाहित्य श्याम

VideoBar

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

यह ब्लॉग खोजें

सोमवार, 1 जून 2009

एक ग़ज़ल --त्रिपदा --दर्दे दिल

यादों के ज़जीरे उग आए हैं ,

मन के समंदर में ;
कश्ती कहाँ-कहाँ लेजायें हम ।

दर्दे दिल उभर आए हें ,ज़ख्म बने ,
तन की वादियों में ;
मरहम-इश्क कहाँ तक लगाएं हम ।

तन्हाई के मंज़र बिछ गए हैं ,
मखमली दूब बनकर ;
बहारे हुश्न कहाँ तक लायें हम ।

रोशनी की लौ कोई दिखती नहीं ,
इस अमां की रात में ;
सदायें कहाँ तक फैलाएं हम।

वस्ल की उम्मीद ही नहीं रही श्याम ,
पयामे इश्क सुनकर ;
दुआएं कहाँ तक अब गायें हम॥