saahityshyamसाहित्य श्याम

VideoBar

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

यह ब्लॉग खोजें

Gadget

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

शनिवार, 20 जून 2009

क्रष्ण लीला , मुरली --दो पद.

मुरली काहे बजाओ घनश्याम।
सुबह सवेरे मुरली बाजे , गूंजे आठों याम।
स्वर रस टपके सब जग भीजे, उपजे भाव ललाम।
रस टपके उर गोप-गोपिका, बाढे प्रीति अनाम ।
रस भीजे मेरी सूखी लकडियां, सास करे बदनाम ।
श्याम की वन्शी बजे जलाये,पिय मन सुबहो शाम।
पोर-पोर कान्हा को बसाये, नस-नस राधे-श्याम


काहे मुरली श्याम बजाये ।
सांझ सवेर बजे मुरलिया, अति ही रस बरसाये ।
से मेरो तन-मन भीगे,अन्तर घट सरसाये ।
रस भीगे चूल्हे की लकडी, आग पकड नहिं पाये ।
फ़ूंक-फ़ूंक मोरा जियरा धडके चूल्हा बुझ बुझ जाये।
सास ननद सब ताना मारें, देवर हंसी उडाये ।
सज़न प्रतीक्षा करे खेत पर, भूखा पेट सताये ।
श्याम’बने कैसे मोरी रसोई, श्याम उपाय बताये ।
वैरिन मुरली श्याम अधर चढि, तीनों लोक नचाये ॥

कोई टिप्पणी नहीं: