saahityshyamसाहित्य श्याम

VideoBar

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

यह ब्लॉग खोजें

Gadget

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

सोमवार, 10 अगस्त 2009

काव्य-दूत ,गतांक से आगे --

उपलब्धि

टीटू का सिलेक्शन हो गया ,
यह सुनकर ,
कितने ही रंग ,आए और गए ;
तुम्हारे चहरे पर।

एक उपलब्धि की,
पूर्णता की,
आत्म तुष्टि सी छागी थी ;
तुम्हारे मुखमंडल पर ,
जैसे राज्य पालिया हो,
सारे भूमंडल पर।

संतान की उपलब्धि,उसकी-
उत्पत्ति से अधिक हर्षदायी होती है,
उत्पत्ति के समय फ़िर भी,
मन सशंकित रहता है ;
उसके पात्र या अपात्र होने का ,
संशय रहता है।

उपलब्धि ,
इस अनायास ही पाले हुए ,
संशय की समाप्ति है;
अतः ,वही सच्ची
संतति प्राप्ति है॥


जवाब

bete ने जब देदिया ,
हमको आज जबाव।
सकते में हम आगये,
जैसे टूटा ख्वाब

नज़र उठा कर क्रोध से,
देखा उसकी ओर ।
सोच समझ कर थाम ली
खामोशी की डोर।

उनके दिए जवाब का,
हमको मिला जवाब।
समझ गए हम,कुंवर जी ,
अब होगेये नवाब



साथी
बिटिया की जब शादी होगी ,
तुम नानी बन जाओगी।
तब भी क्या यूंही बन ठन कर,
मेरे सम्मुख आओगी !

बेटे की जब शादी होगी,
तुम दादा बन जाओगे।
तब भी क्या तुम किचिन में-
आकर,मेरा हाथ बंटाओगे!

तंग करेगा दर्द दांत का,
घुटनों में पीढा होगी।
तब भी क्या तुम कदम मिलाकर,
साथ-साथ चल पाओगी !

मोटा चश्मा लग जाएगा,
कुछ ऊंचा सुन पाओगे ।
उसी तरह हम साथ चलेंगे,
जैसे तुम चल पाओगे ॥


2 टिप्‍पणियां:

Prem ने कहा…

sehaj aur saral abhivyakti.achchi lagi

डा. श्याम गुप्त ने कहा…

dhanyavaad jo aap aaye,
aapako ye bol bhaaye.