saahityshyamसाहित्य श्याम

VideoBar

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

यह ब्लॉग खोजें

Gadget

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

मंगलवार, 18 अगस्त 2009

सृष्टि महा काव्य ---आगे

तृतीय सर्ग- सद-नासद खंड

उस पूर्ण ब्रह्म,उस पूर्ण काम से,
पूर्ण जगत, होता विकसित;
उस पूर्ण ब्रह्म का कौन भाग ,
जग संरचना में, व्याप्त हुआ ?
क्या शेष बचा ,जाने न कोई;
वह शेष भी सदा पूर्ण रहता है।

वह नित्य प्रकृति ,वह जीवात्मा,
उस सद-नासद में निहित रहें;
हों सृष्टि-भाव,तब सद होते ,
और लय में हों लीन उसी में ।
यह चक्र ,सृष्टि१-लय२ नियमित है,
इच्छानुसार उस पर-ब्रह्म के ।

इच्छा करता है जब लय की ,
वे देव,प्रकृति,गुण,रूप सभी ;
लय हो जाते अपःतत्व३ में,
पूर्ण सिन्धु उस महाकाश४ में ।
लय होता जो पूर्ण-ब्रह्म में,
फ़िर भी ब्रह्म पूर्ण रहता है।
-----टोटल १२ छंद

चतुर्थ --संकल्प खंड --
६।
कर्म रूप में भोग हेतुओर,
मुक्ति हेतु,उस जीवात्मा के ;
आत्म बोध से वह परात्पर ,
या अक्रिय-असद चेतन सत्ता ,
अव्यक्त,स्वयम्भू या परभू,ने-
किया भाव संकल्प सृष्टि हित।

-९-
मनः रेत संकल्प कर्म जो,
प्रथम काम संकल्प जगत का;
सृष्टि प्रवृत्ति की ईषत इच्छा,
'एको अहम् बहुस्याम रूप में,
महाकाश में हुई प्रतिध्वनित,
हिरण्य -गर्भ के सगुण भाव से।

-१२-
स्पंदन से साम्य कणों के ,
अक्रिय अपः होगया सक्रिय सत्,
हलचल से और द्वंद्व भाव से ,
सक्रिय कणों के बनी भूमिका ;
सृष्टि कणों के उत्पादन की,
महाकाश की उस अशांति में।
---कुल १२ छंद.

पंचम सर्ग -अशांति खंड
-१-
परम व्योम की इस अशांति से
द्वंद्व भाव कण-कण में उभरा,
हलचल से गति मिली कणों को ;
अपः तत्व में सामी जगत के,
गति से आहत नाद बने फ़िर ,
शब्द,वायु ऊर्जा ,जल और मन।

-६-
सतत संयोजन और विखंडन ,
रूप नाभिकीय ऊर्जा का जो ;
अंतरिक्ष में सौर-शक्ति बन,
नाम अदिति से दिति का पाया;
प्रकट रूप है जो पदार्थ की,
पूर्ण कार्य रूपी ऊर्जा का।

-१४-
शक्ति और इन भूत कणों के ,
संयोजन से बने जगत के,
सब पदार्थ और उनमें चेतन,
देव रूप में निहित होगया-
भाव तत्व बन , बनी भूमिका,
त्रिआयामी सृष्टि कणों की।

-२७-
कहता है विज्ञान,आदि में,
कहीं नहीं था कुछ भी स्थित।
एक महा विस्फोट हुआ था ,
अन्तरिक्ष में और बन गए,
सारे कम,प्रति कण प्रकाश कण ,
फ़िर सारा ब्रह्माण्ड बन गया।

-----कुल ३७ छंद.

षष्ठ खंड -ब्रह्माण्ड खंड
-२-
परा -शक्ति से परात्पर की,
प्रकट स्वयम्भू ,आदि शंभु थे;
अपरा शंभु संयोग हुआ जब ,
व्यक्त भाव महतत्व बन गया;
हुआ विभाजित व्यक्त पुरूष में,
एवं व्यक्त आदि माया में।
-५-
महा विष्णु और रमा संयोग से,
प्रकट हुए चिद बीज अनंत;
फैले थे जो परम व्योम में,
कण-कण में बन कर हेमांड ;
उस असीम के महा विष्णु के ,
रोम-रोम में बन ब्रह्माण्ड।

-----कुल१३ छंद.

सप्तम-ब्रह्मा प्रादुर्भाव एवं स्मरण खंड

-३-
ब्रह्मा धरकर रूप चतुर्मुख,
काल स्वरुप उस महाविष्णु का;
स्वर्ण कमल पर हुआ अवतरित,
और तभी से ब्रह्मा का दिन,
हुआ प्रभावी और समय की ,
नियमन-गणना हुई तभी से।

११-
वाणी के उन ज्ञान स्वरों से,
विद्या रासायनिक संयोग की ;
बिखरे कण नियमित करने की ,
सृष्टि सृजन की पुरा प्रक्रिया ,
का स्मरण हुआ ब्रह्मा को,
रचने लगे सृष्टि हर्षित मन।

----कुल ११ छंद.

अष्टम खंड -सृष्टि खंड

-२-
आद्य-शक्ति के चार चरण युत,
ब्रह्मा ने सब सृष्टि रचाई,
प्रथम चरण में भाव सावित्री,
जो था मूल पदार्थ अचेतन;
देव,मनुज,प्राणी क्रमशः थे-
तीन चरण चेतन सत्ता माय।

-१९-
तपः साधनायुक्त भाव में
ब्रह्मा ने मानव रच डाला;
क्रियाशील अति विकसित था जो,
तीन गुणों युत ,ज्ञान कर्म युत,
साधाशील सदा लक्ष्योन्मुख ,
अतः हुआ दुःख का सागर भी।

-२८-
नव-विज्ञान यही कहता है,
पहले जड़ प्रकृति बनी सब।
मानव का जो आज रूप है,
क्रमिक विकास हुआ बानर से।
जल में प्रथम जीव आयाथा ,
धूम्रकेतु संग अन्तरिक्ष से।

-३१-
श्रुति दर्शन अध्यात्म बताता,
चेतन रहता सदा उपस्थित ;
इच्छा रूप में पर-ब्रह्म की;
मूल चेतना सभी कणों की,
जो गति बनाकर करे सर्जना,
स्वयं उपस्थित हो कण-कण में।
-----कुल ३२ छंद

नवम-सर्ग--प्रजा खंड

--८--
आधा नर,आधा नारी का ,
रूप लिए थे रुद्र-देव जो,
अर्ध नारीश्वर रूप स्वयम्भू,
पुरूष रूप थे लिंग महेश्वर,
नारी माया-योनी स्वरूपा;
आदि योग मायया जो शंभु की।


--११--
मनु-शतरूपा में स्फुरणा,
काम भाव की हुई पल्लवित,
लिंग महेश्वर और माया के,
स्वयं समाहित हो जाने से,
काम सृष्टि का प्रथम बार तब,
आविर्भाव होगया जगत में।
------कुल १३ छंद.


दशम सर्ग-माहेश्वरी प्रजा खंड-

-१-
मनु शतरूपा प्रथम युगल थे,
सूत्रधार मानवी सृष्टि के;
नियमित मानव उत्पत्ति के,
मनु, प्रथम मानव कहलाये,
मनुज कहाए सब मनु बन्शज,
सर्वोत्तम कृति रचयिता की।

- ६-
ना,री भाव नहीं था जब तक,
फलित सृष्टि की स्वतः प्रक्रिया;
कैसे भला फलित हो पाती ,
आद्य -शक्ति का हुआ अवतरण ;
हुआ समन्वय नर-नारी का ,
पूर्ण हुआ क्रम सृष्टि -यज्ञ का।

-८-
प्रथम मैथुनी जन्म सृष्टि में,
प्रसूति के गर्भ से हाया था;
अतः गर्भ को धारण करना,
नारी का, प्रसूति कहलाया;
और जन्म देने का उपक्रम,
गर्भाधान, प्रसव कहलाया।
----कुल ९ छंद

एकादश सर्ग-उपसंहार
-१२-
नहीं महत्ता इसकी है ,कि-
ईश्वर ने यह जगत बनाया,
अथवा वैज्ञानिक भाषा में,
आदि-अंत बिन ,स्वयं रच गया;
अथवा ईश्वर की सत्ता है,
अथवा ईश्वर कहीं नही है।

-१३-
यदि मानव ख़ुद ही करता है,
और स्वयं ही भाग्य विधाता ;
इसी सोच का पोषण हो यदि,
अहं भाव जाग्रत हो जाता;
मानव संभ्रम में घिर जाता,
और पतन की राह यही है।

१४-
पर ईश्वर हैं जगत नियंता ,
कोई है, अपने ऊपर भी,
रहे तिरोहित अहं भाव भी ,
सत्व गुणों से युत हो मानव,
सत्यम,शिवम्,भाव अपनाता,
सारा जग सुंदर होजाता॥

----समाप्त--

कोई टिप्पणी नहीं: