saahityshyamसाहित्य श्याम

VideoBar

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

यह ब्लॉग खोजें

शनिवार, 22 अगस्त 2009

उच्च विचार --कविता

ऊंचे शिखरों पर ही ,
बर्फ जमती है,
खड्डों में नहीं;
उच्च मनोभूमि पर ही,
कार्य सिद्धि होती है,
तुच्छ विचारों से नहीं ।

वो फलदार बृक्ष,जो-
खड़े होते हैं सीना तानकर,
फल-फूल से भरपूर ;
पंछी उन्हीं पर आते हैं,
सूखे पेड़ों पर नहीं।

इसलिए ,ख़ुद को-
फलदार बनाओ यारो ;
कोई पत्थर से मारे ,तो-
फल गिराओ यारो॥

कोई टिप्पणी नहीं: