saahityshyamसाहित्य श्याम

VideoBar

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

यह ब्लॉग खोजें

Gadget

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

बुधवार, 12 अगस्त 2009

काव्य-दूत आगे--

शाश्वत

मृत्यु ,तुम कितनी निष्ठुर हो ,
छीन लेती हो पल भर में ,
जीव से जीवन ,और-
आत्मा से शरीर।

तुम शाश्वत हो ,
शाश्वत है जीवन भी ;
फ़िर भी ,जीवन नाशवान है ,
क्षण-भंगुर है; और-
तुम हो अविनाशी ,
या सर्वनाशी।

तुम परमात्म रूप हो ,जिसमें -
जीव समाहित हो जाता है,
चल पड़ने के लिए ,पुनः-
अपनी शाश्वत एवं अनंत यात्रा के,
अगले पड़ाव की और।

हे परमात्म रूप ! हे सुखदा!
तुम शाश्वत हो,महान हो,
अवश्यम्भावी हो;
फ़िर भी , मृत्यु !
तुम कितनी निष्ठुर हो,
तुम कितनी निष्ठुर हो॥

कोई टिप्पणी नहीं: